Board of Complementary and Alternative Medicines-BCAM Start your own admission or New Center Contact at: 09359922777, 9219511185 अपना प्राक्रतिक चिकित्सा एवं योग का तथा कॉम्प्लीमेंट्री एवं अल्टरनेटिव पैथी का शिक्षण / प्रशिक्षण केंद्र शुरू कर निस्वार्थ राष्ट्र सेवा करने के लिये सम्पर्क करें To Become our Global Academic Partner or for any Related Queries. You may Contact at....9359922777

NATUROPATHY

 

Naturopathy is a natural healing technique using the healing powers of nature. The principle of Naturopathy is that the accumulation of toxins is the root cause of all diseases. Prevention and elimination of toxins is the route to health. Treatments are based on the 5 great elements of nature that have immense healing properties. There is no role of internal medications in the nature cure system.

The Five great elements of nature and the treatments based on them are:

  • Earth - Mud baths, Mud packs,
  • Water - Hydrotherapeutic methods in the form of Baths, Jets, Douches, Packs, Compresses, Immersions
  • Air - Breathing exercises, Outdoor walking, Open air baths
  • Fire - Sun baths, Thermoleum baths, Magnetised water, Colour charged oils / water
  • Ether - Fasting therapy

Other Naturopathic Therapies:

  • Yoga
  • Oriental healing techniques like Reflexology, Acupressure, Acupuncture and Auriculotherapy
  • Food and Nutrition
  • Magnetotherapy
  • Physiotherapy
  • Chromotherapy

This multi disciplinary approach uses the healing power of natural resources like foods, herbs, earth, water, air, sun and magnets to allow the body to heal itself. It helps in degenerative and chronic conditions like asthma and arthritis, gastro-intestinal problems and hypertension.

Dead Sea PackEARTH - MUD THERAPY

Of the five elements of nature, mud represents Earth and has tremendous impact on the maintenance of health and prevention of diseases. Minerals and trace elements present in the mud are known for its renowned effects and healing properties. Mud also has the remarkable property of holding moisture for a long time, which has a cooling effect on the part of the body applied.

 

  • Helps improve circulation and relax the muscles
  • Improves the digestive activity and sets right the metabolism
  • Local application helps relieve inflammations, swellings and reduces pain
  • Excellent in skin conditions without open lesions
  • Helps bring down blood pressure
  • Nourishes the skin
  • Conditions the hair
  • Specific kind of application relieves the stiffness of joints

MUD PACKS

Frequent application of mud helps in improving the complexion of the skin by getting rid of spots and patches, which appear in various skin disorders. Mud baths are also generally recommended for all skin diseases, including psoriasis, leucoderma and urticaria and other allergic conditions of the skin.

BODY WRAPS

Using special Natural Muds high in natural minerals and salts the pack is applied on the entire body except the head.

Dead Sea Mud Body Wrap

The mud from the Dead Sea is highly saturated with natural salts and minerals like calcium chloride, iron and sulphates. These minerals are known for their renowned effects and healing properties.

  • It cleanses, exfoliates, draws out toxins, hydrates and improves the flow of nutrients to the skin surface

Moor Mud Body Wrap

This mud is from the boggy lake and marshland in Austria, which is home to a rich inheritance of plants and herbs, some of which are unique It contains about 300 medicinal herbs, lipids, enzymes, essential oils, minerals and vitamins.

  • Good for acne, eczema, psoriasis and other skin disorders
  • A natural anti-inflammatory
  • Good for rheumatism and arthritic conditions
  • Helps break down cellulite by stimulating the circulation and lymphatic system

Great Salt Lake Mud Body Wrap

The whole body is covered with this mud which is composed of pure natural clay and a trace elements and minerals blend product from the Great Salt Lake.

  • Restores and revitalizes the skin for a healthy appearance
  • Excellent for psoriasis, eczema, acne and other skin irritants

Hungarian Wellness Mud Body Wrap

  • Improves the skin cells metabolism and gently soothes irritation
  • Provides firmness and strength and deeply penetrates the tissues to help clear stored toxins

Hydro TherapyWATER - HYDROTHERAPY

This uses the therapeutic properties of water. This medium was made use in therapeutics hundreds of years ago. Water has great healing properties and exhibits different properties at different temperatures. The temperature of the water for any treatment depends on the effect desired. Kellogg is considered to be the Father of Hydrotherapy.

Water is used internally and externally in all its forms- steam, liquid or ice, to cleanse and restore health. It is used in the form of Baths, Jets/Douches, Packs, Compresses and Immersions to name a few.

Drinking a specific amount of water also has therapeutic effects:

  • Helps maintain hydration of the body
  • Helps in proper secretion of body fluids and maintenance of Ph.
  • Aids digestion and prevents constipation
  • Improves skin condition and nourishes it
  • Maintains the flexibility of joints
  • Helps in detoxification

HYDRO WASHES

This helps cleanse and detoxify even the internal cavities of the face.

HYDRO BATHS

Arm and Foot Bath

  • Relieves localized pain and inflammations
  • Relieves congestive headaches
  • Relieves the spasms of the bronchioles and facilitates easy breathing as in asthma and bronchitis
  • Excellent for relieving the numbness and tingling in the extremities as in diabetes mellitus

Hip Bath

  • Stimulates the circulation towards the pelvic and digestive organs relieves constipation, flatulence and indigestion
  • Helps set right the menstrual disorders like dysmenorrhoea, menorrhagia, leucorrhoea
  • Helps strengthen the hips and lumbar sacral spine and the coccyx and relieves pain if any
  • Beneficial in relieving haemorrhoids

Spinal Bath / Anti-Stress Bath

  • Stimulates the spinal nerves
  • Relaxes the paraspinal muscles
  • Helps maintain the blood pressure
  • Helps in regulating the moods like anxiety or depression
  • Relaxes irritable nerves

Steam Bath

Exposing the entire body with the exception of the head to a superheated atmosphere helps in many ways. Steam inhalation helps decongest the respiratory tract

  • Medicated ayurvedic or herbal steam helps rejuvenate the body
  • Helps open up the skin pores
  • Helps remove the toxins of the skin through sweating
  • Helps the skin maintain its natural moisture and softness

WET PACKS

This treatment allows an in-depth detoxification of the areas which are swollen, blocked or sensitive and helps to restore the vitality of the skin and the body. There are several packs like abdomen, knee, trunk, shoulder, ankle and neck packs.

  • Relieves inflammation and swellings
  • Improves circulation
  • Relieves the stiffness and spasms of muscles and joints

HYDRO JETS / DOUCHES

These spa treatments help refresh, stimulate and boost vitality of the body. They improve the peripheral blood circulation and stimulate the nervous system.

COMPRESSES

This is the application of water in the form of a pack wrung out in water of different temperatures.

    • Helps in detoxification of areas which are swollen, blocked or sensitive
    • Excellent for tight sore muscles, edema, cellulite
    • Stimulates the blood and lymph stream
    • Gives soothing, refreshing, calming and decongesting qualities

IMMERSIONS

It is one of the hydrotherapeutic techniques where the body locally or wholly is immersed in water of different temperatures.

  • Helps improve the circulation to the part immersed and also the peripheral circulation
  • Helps relieve edema
  • Useful in treating skin disorders
  • Helps to relieve congestion of the reflex regions thereby relieving symptoms of asthma, migraine, insomnia, etc

COLONIC HYDROTHERAPY / IRRIGATION

The colon is the seat of all toxins in the body. This detoxifying treatment involves a soothing gentle flow of filtered, temperature-controlled water throughout the colon to flush out logged waste and toxins.

  • Helps bring about efficient elimination of waste products
  • Helps restore tissue and organ function
  • Rebalances body chemistry

REFLEXOLOGY

An Oriental healing technique used to relax the nerves and release the trapped energy. There are energy zones that run throughout the body and reflex areas in the feet that correspond to all the major organs, glands and parts of the body. Based on the principle that reflex points in the feet and palms correlate to individual organs and parts of the body, manipulations on these reflexes help stimulate the organs. It helps those suffering from insomnia, menstrual problems and pains.Reflexology

  • Reduces stress and induces deep relaxation
  • Improves circulation
  • Cleanses the body of toxins and impurities
  • Brings the whole system into balance
  • Vitalises energy
  • A preventive healthcare by enhancing the immune system
  • Helps encourage healing in combination with specific treatments

 

 

ACUPRESSURE

This natural Oriental healing technique uses applied pressure to specific points on the body to relax trapped nerves and release blockages. It is used both as a preventive and curative therapy. It helps alleviate pain, fatigue and addresses musculoskeletal problems.

  • Induces relaxation and restores balance
  • Stimulates the circulatory and lymphatic system
  • The therapeutic touch stimulates certain chemicals in the brain that boost the immune system, lifts depression and relieves stress

AcupunctureACUPUNCTURE

Chinese Acupuncture works by using fine needles painlessly applied to specific points around the body to stimulate channels of energy flow allowing the body to balance itself. It helps in migraines, pains, sciatica and allergies like asthma and sinusitis.

  • Effective in alleviating pain particularly in painful recurring diseases
  • Relaxation of muscle spasm so that the toxicity held in the muscle and internal organs and glands is released
  • Promotes healing and rebalancing of the subtle bodies and physical body

 

AURICULOTHERAPY

All the internal organs of the body and the most vital functions like heart rate, blood pressure, etc and also thirst, hunger, etc are represented in each ear. By pricking needles in these regions we are aiming at stimulating and normalizing the functions of these organs.

There are also points which help get rid of addictions, increase or decrease appetite, raise or lower blood pressure, heart rate and pulse rate.

NutritionNUTRITION & DIETETICS

Using food as medicine, an individually devised, wholesome and natural diet is aimed at balancing nutritional deficiencies, combating allergies, digestive disorders and building resistance to disease. Medical nutrition therapy and specific diet strategies are advised for chronic conditions, illnesses, or injuries.

 

 

Swedish MassageMASSOTHERAPY

There are different types of massages dependent on the materials and techniques used. To add to the experience we have soft soothing music and aromatic oils to stimulate the senses.

 

 

ENERGY BALANCE MASSAGE

This cream massage is soothing and is ideal for stress relief, relaxation and as a remedial treatment for physical and emotional problems.

SWEDISH MASSAGE

A therapeutic massage using a variety of manipulations helps eliminate toxic accumulation which causes stress, fatigue, muscular aches and pains.

THAI MASSAGE

This massage is based on the theory that the body is made up of 72,000 sen or energy lines. Many of these channels correspond to Chinese meridians while others correspond to the concepts of Nadis from the Ayurvedic medical science. The massage helps stretch and stimulate the body. The patterns of gentle rocking, stretching and rhythmic compressions opens up blockages on the energy lines.

  • Helps remove blockages and improve vitality
  • Opens the joints and balances all the major muscle groups in the body
  • Suitable for long term injuries
  • Builds a high level of fitness
  • Bring one into a deeply relaxed state
  • Helps one become more flexible

FOMENTATION MASSAGE

With the help of hot or cold packs the massage is done to stimulate or relax the body.

UNDERWATER MASSAGE

This massage under water helps balance the pressure within the body. It makes the body feel lighter as the body under water increases the buoyancy of the body.

  • Relieves joint stiffness
  • Relieves muscle spasms
  • Improves the circulation especially peripheral circulation
  • Activates the functions of the skin

DRY MASSAGE

This gentle massage without oil/cream helps stimulate the area.

AROMA OIL MASSAGE

A very relaxing and refreshing massage using the aromatic oils that have very specific properties and effects on the body.

  • Refreshing to the senses and mind
  • Highly relaxes and calms the mind
  • Sets right the metabolic disorders
  • Improves the skin condition and nourishes it

MAGNETO THERAPY

This is the treatment of diseases with the healing powers of magnets. Magnets are natural substances which exhibit different properties on different poles. The same properties of magnetism are exhibited in humans as well. It is this similarity which helps in therapeutic administration.

It is a totally non-invasive therapy where no medications or radiations are involved and no side effects are seen. Through the application of magnetic field on the body, it has proved beneficial in certain diseases, especially in rheumatic and muscular aches and pains, as it has the power of draining pains out of the body. It is contraindicated in case of those having pace makers, pregnancies or carcinomas.

ZERO BALANCING

It is the art and skill of balancing body energy with body structure through touch. This is a hands-on bodywork system designed to align energy of the body with the physical structure.

CRANIO SACRAL THERAPY

This subtle technique listens to the rhythm of the body particularly the spinal column which in turn helps release the natural flow of energy within the body. Latent injuries be they physical or emotional will help get healed.

For any Course about Naturopathy and Yoga ,must read about CCRYN !

About the Central Council for Research in Yoga & Naturopathy (CCRYN) :

The Central Council for Research in Yoga & Naturopathy (CCRYN) is an autonomous body under Department of AYUSH, Ministry of Health and Family Welfare, Government of India.  It is an apex body in the field of Yoga and Naturopathy, actively engaged in promotion, propagation, research, education, training and publication work. A number of research projects with full financial assistance by the Council are being conducted at various reputed and premier medical institutions viz. All India Institute of Medical Sciences, Dr. Ram Manohar Lohia Hospital, New Delhi, National Institute of Mental Health and Neuro Sciences, Bangalore  etc. So far, 30 research projects have been completed. The findings of these research projects are applied in OPDs of Yoga and Naturopathy run by the Council in the leading Government Hospitals of Delhi. The Council provides grant-in-aid to various Yoga and Naturopathy institutions throughout India under TCPC & PCC schemes for furtherance of its aims & objectives.  Reorientation programmes for Yoga and Naturopathy practitioners to update their knowledge and motivate them for research and training workshops on research methodology are also organised by the Council.  

About Naturopathy :

Naturopathy is a drugless health care practice that focuses on restoring health rather than managing disease. The human body is having remarkable recuperative power to heal itself. Naturopathy primarily focuses on disease prevention rather than cure as prevention is the safe, easy and cost effective approach to health.

About Yoga: 


The literal meaning of the Sanskrit word Yoga is to ‘yoke’.  Accordingly, Yoga can be defined as a means for uniting the individual spirit with universal spirit of God.
Naturopathy consider that the human body owes its existence to Nature’s five elements – Earth, Water, Air, Fire and Ether a composite illustration of all forces of Nature.

The element Earth stands for the solid structure like bones. Water is a representative of the fluids like blood, lymph, etc. Air represents the breath of life, Fire symbolizes the vitality and Ether or Space personifies the reflection of the human sprit – Soul – the unseen aspect of the human entity.

In positive health, each of these elements is in equilibrium and well balanced. Any interruption in this equilibrium due to any cause leads to a disease. Naturopathy aligns us with the self-preservative Will of Nature to protect and heal itself from within, by weeding out the undesirable, with a strong sense of will power.

Naturopathy believes “All healing powers are with in our body”. It, therefore, advocated aiding the human system to remove the cause of the disease i.e. toxins, by expelling discarded matter from the body for curing the disease. We fall ill only when we go against nature.

Formulation of aims and patterns of research on scientific lines



Naturopathy is a drugless health care practice that focuses on restoring health rather than managing disease. The human body is having remarkable recuperative power to heal itself. Naturopathy primarily focuses on disease prevention rather than cure as prevention is the safe, easy and cost effective approach to health.

The literal meaning of the Sanskrit word Yoga is to ‘yoke’.  Accordingly, Yoga can be defined as a means for uniting the individual spirit with universal spirit of God.

 

Formulation of aims and patterns of research on scientific lines

The main objective of the BCAM is to do research work in Yoga and Naturopathy. It will formulate aims and patterns of these researches on scientific lines in Yoga and Naturopathy.

 

Undertake education, training, research and other programmes

The BCAM will initiate, aid, develop and co-ordinate Scientific Research in fundamentals and applied aspects of Yoga and Nature cure.

 

Promoting and assisting Yoga and Naturopathy institutions

The BCAM will promote and assist institutions involved in propagation and experimental research in prevention, causation and remedy of diseases with special emphasis on the coverage of rural population of the country.

 

Promotion and Propagation of Yoga and Naturopathy

Through different programmes and activities, the BCAM  will work for the promotion and propagation of Yoga and Naturopathy.


 

Naturopathy

Naturopathy is a system of working towards the cure of diseases without using medicines.  It is an ancient and traditional science which integrates the physical, mental, and spiritual aspects of our natural constitution. Naturopathy has the capacity to prevent and in some cases also cure the disease.

The main principles of Naturopathy are astounding.
First, the reasons and remedies of all diseases are the same; ailments develop due to the presence of intoxicants which are removed. Second, the intoxicants cause diseases, not bacteria and viruses which simply feed off them. Third, nature itself is the best ‘doctor’, the patient is cured, not the ailment. All levels of the body are treated simultaneously and holistically.
Finally, no medicines are used because Naturopathy is a superb medicine in itself.

The principal aim of Naturopathy is to teach people the art of healthy living by changing their daily routine and habits—this not only cures the disease but makes our bodies strong and glowing.

o, what are the techniques that are involved? There are four classifications: food, mud, water and massage therapies.

In food therapy, the idea is to consume what we eat in its natural form as much as possible as it is by itself a medicine. This mainly includes fresh fruit, fresh leafy green vegetables, and sprouts; and there are different combinations of purifying, strengthening, or pacifying foods. These must be consumed in the correct proportion, and the stomach left a little empty.

To extract intoxicants from the body, both mud baths and mud packs are used, particularly for ailments such as high blood pressure, tension headaches, anxiety, constipation, plus gastric and skin disorders.

There are several main types of water therapy using clean fresh and cool water; and after this type of a treatment, the body feels refreshed and energized. The methods we use have efficacious results for a wide variety of ailments: a hip bath improves the efficiency of the liver, large intestine, stomach, and kidneys; a full steam bath opens the skin’s pores drawing out harmful intoxicants; a hot foot bath helps with asthma, knee pain, headache, sleeplessness, and menstrual irregularities; in addition, there is a full body water massage, a spine bath, hot and cold wraps, and enemas, all of these to get rid of the toxins we do not  want.

Finally there is a massage therapy which increases the blood flow, removing stiffness, weariness, and pain from muscles and this can work in conjunction with some of the other naturopathic therapies.

It is true that Naturopathy can be used to help cure and relieve many of today’s illnesses and diseases. It can also be used by anyone who wishes to simply enjoy the feeling of relaxing. This, no doubt, is therapeutic in itself. Naturopathy is always helpful for whatever be the reason.

 

The main objective of the BCAM is to do research work in Yoga and Naturopathy. It will formulate aims and patterns of these researches on scientific lines in Yoga and Naturopathy.

 

Undertake education, training, research and other programmes

The BCAM will initiate, aid, develop and co-ordinate Scientific Research in fundamentals and applied aspects of Yoga and Nature cure.

 

Promoting and assisting Yoga and Naturopathy institutions

The BCAM will promote and assist institutions involved in propagation and experimental research in prevention, causation and remedy of diseases with special emphasis on the coverage of rural population of the country.

 

Promotion and Propagation of Yoga and Naturopathy

Through different programmes and activities, the BCAM  will work for the promotion and propagation of Yoga and Naturopathy.

प्राकृतिक चिकित्सा

प्राकृतिक चिकित्सा (नेचुरोपैथी / naturopathy) एक चिकित्सा-दर्शन है।]इसके अन्तर्गत रोगों का उपचार व स्वास्थ्य-लाभ का आधार है - 'रोगाणुओं से लडने की शरीर की स्वाभाविक शक्ति'।] प्राकृतिक चिकित्सा के अन्तर्गत अनेक पद्धतियां हैं जैसे - जल चिकित्साहोमियोपैथीसूर्य चिकित्साएक्यूपंक्चरएक्यूप्रेशरमृदा चिकित्सा आदि। प्राकृतिक चिकित्सा के प्रचलन में विश्व की कई चिकित्सा पद्धतियों का योगदान है; जैसे भारत का आयुर्वेद तथा यूरोप का 'नेचर क्योर'।]

प्राकृतिक चिकित्सा प्रणाली चिकित्सा की एक रचनात्मक विधि है, जिसका लक्ष्य प्रकृति में प्रचुर मात्रा में उपलब्ध तत्त्वों के उचित इस्तेमाल द्वारा रोग का मूल कारण समाप्त करना है।] यह न केवल एक चिकित्सा पद्धति है बल्कि मानव शरीर में उपस्थित आंतरिक महत्त्वपूर्ण शक्तियों या प्राकृतिक तत्त्वों के अनुरूप एक जीवन-शैली है। यह जीवन कला तथा विज्ञान में एक संपूर्ण क्रांति है।]

इस प्राकृतिक चिकित्सा पद्धति में प्राकृतिक भोजन, विशेषकर ताजे फल तथा कच्ची व हलकी पकी सब्जियाँ विभिन्न बीमारियों के इलाज में निर्णायक भूमिका निभाती हैं।

प्राकृतिक चिकित्सा निर्धन व्यक्तियों एवं गरीब देशों के लिये विशेष रूप से वरदान है।

प्राकृतिक चिकित्सा के मूलभूत सिद्धान्त

प्राकृतिक चिकित्सक निम्नलिखित छः मूलभूत सिद्धान्तों का अनुसरण करते हैं-

  • (१) कोई हानि नहीं करना
  • (२) रोग के कारण का इलाज करना (न कि लक्षण का)
  • (३) स्वस्थ जीवन जीने तथा रोग से बचने की शिक्षा देना (रोगी-शिक्षा का महत्व)
  • (४) व्यक्तिगत इलाज के द्वारा सम्पूर्ण शरीर को रोगमुक्त करना (हर व्यक्ति अलग है)
  • (५) चिकित्सा के बजाय रोग की रोकथाम करने पर विशेष बल देना
  • (६) शरीर की जीवनी शक्ति (रोगों से लड़ने की क्षमता) को मजबूत बनाना (शरीर ही रोगों को दूर करता है, दवा नहीं)

व्यवहार में प्राकृतिक चिकित्सा

प्राकृतिक चिकित्सा न केवल उपचार की पद्धति है, अपितु यह एक जीवन पद्धति है।इसे बहुधा 'औषधिविहीन उपचार पद्धति' कहा जाता है।यह मुख्य रूप से प्रकृति के सामान्य नियमों के पालन पर आधारित है। जहॉ तक मौलिक सिद्धांतो का प्रश्‍न है इस पद्धति का आयुर्वेद से निकटतम सम्बन्ध है।

प्राकृतिक चिकित्सा के समर्थक खान-पान एवं रहन सहन की आदतों, शुद्धि कर्म, जल चिकित्सा, ठण्डी पट्टी, मिटटी की पट्टी, विविध प्रकार के स्नान, मालिश्‍ा तथा अनेक नई प्रकार की चिकित्सा विधाओं पर विश्‍ोष बल देते है।[ प्राकृतिक चिकित्सक पोषण चिकित्सा, भौतिक चिकित्सावानस्पतिक चिकित्साआयुर्वेद आदि पौर्वात्य चिकित्सा, होमियोपैथी, छोटी-मोटी शल्यक्रिया, मनोचिकित्सा आदि को प्राथमिकता देते हैं।

प्राकृतिक चिकित्सा के व्यवहार में आने वाले कुछ कर्म नीचे वर्णित हैं-

मिट्टी चिकित्सा

मुख्य लेख : मृदा चिकित्सा

मिट्टी जिसमें पृथ्वी तत्व की प्रधानता है जो कि शरीर के विकारों विजातीय पदार्थो को निकाल बाहर करती है। यह कीटाणु नाश्‍ाक है जिसे हम एक महानतम औषधि कह सकते है

मिट्टी की पट्टी का प्रयोगः

उदर विकार, विबंध, मधुमेह, शि‍र दर्द, उच्च रक्त चाप ज्वर, चर्मविकार आदि रोगों में किया जाता है। पीडित अंगों के अनुसार अलग अलग मिट्टी की पट्टी बनायी जाती है।

वस्ति (एनिमा) 

 

मुख्य लेख : वस्ति

उपचार के पूर्व इसका प्रयोग किया जाता जिससे कोष्ट शुद्धि हो। रोगानुसार शुद्ध जल नीबू जल, तक्त, निम्ब क्वाथ का प्रयोग किया जाता है।[वस्ति (enima) वह क्रिया है, जिसमें गुदामार्ग, मूत्रमार्ग, अपत्यमार्ग, व्रण मुख आदि से औषधि युक्त विभिन्न द्रव पदार्थों को शरीर में प्रवेश कराया जाता है।[

जल चिकित्साः

इसके अन्तर्गत उष्ण टावल से स्वेदन, कटि स्नान, टब स्नान, फुट बाथ, परिषेक, वाष्प स्नान, कुन्जल, नेति आदि का प्रयोग वात जन्य रोग पक्षाद्घात राधृसी, शोध, उदर रोग, प्रतिश्‍याय, अम्लपित आदि रोगो में किया जाता है।

सूर्य रश्मि चिकित्सा

सूर्य के प्रकाश के सात रंगो के द्वारा चिकित्सा की जाती है। यह चिककित्‍सा शरीर मे उष्‍णता बढाता है स्‍नायुओं को उत्‍तेजित करना वात रोग, कफज, ज्‍वर, श्‍वास, कास, आमवात पक्षाधात, ह्रदयरोग, उदरमूल, मेढोरोग वात जन्‍यरोग, शोध चर्मविकार, पित्‍तजन्‍य रोगों में प्रभावी हैं।[

उपवास[

सभी पेट के रोग, श्वास, आमवातसन्धिवात, त्वक विकार, मेदो वृद्धि आदि में विश्‍ोष उपयोग होता है।[


नेचुरोपैथी: अल्टरनेटिव मेडिसिन, अल्टरनेटिव करियर

 

नेचुरोपैथी एक समृद्ध और स्वास्थ्यवर्द्धक जीवनशैली है नेचुरोपैथी शरीर को ठीक-ठाक रखने के विज्ञान की प्रणाली है जो शरीर में मौजूद शक्ति को प्रकृति के पांच महान तत्वों की सहायता से फिर से स्वास्थ्य की प्राप्ति के लिए उत्तेजित करती है। जिसका कोई अतिरिक्त कुप्रभाव नहीं पड़ता। रोग का इलाज करने वाले फिजिशियन जड़ी-बूटियों, पौधों, प्राकृतिक पोषक तत्वों, भोजन संबंधी नियम व निषेधों द्वारा रोग का इलाज करते हैं। नेचुरोपैथी में व्यक्ति की आंतरिक प्रतिरोधक क्षमता का प्राकृतिक ढंग से विकास किया जाता है ताकि सिंथेटिक ड्रग्स के बिना व्यक्ति का इलाज संभव हो जाए। अन्य शब्दों में कहा जाए तो नेचुरोपैथी स्वयं, समाज और पर्यावरण के साथ सामंजस्य करके जीने का सरल तरीका अपनाना है। नेचुरोपैथी कोर्स करने के लिए बारहवीं कक्षा उत्तीर्ण होना आवश्यक है।


नेचुरोपैथी रोग प्रबंधन का न केवल सरल और व्यवहारिक तरीका प्रदान करता है बल्कि एक मजबूत सैद्धांतिक आधार भी प्रदान करता है। यह तरीका स्वास्थ्य की नींव पर ध्यान देने का किफायती ढांचा भी प्रदान करता है। नेचुरोपैथी पश्चिमी दुनिया के बाद दुनिया के अन्य हिस्सों में भी जीवन में खुशहाली वापस लाने के कुदरती तरीकों के कारण लोकप्रिय हो रहा है। 

कुछ लोग इस पद्धति की शुरुआत करने वाले के रूप में फादर ऑफ मेडिसिन हिपोक्रेट्स को मानते हैं। कहा जाता है कि हिपोक्रेट्स ने नेचुरोपैथी की वकालत करना तब शुरू कर दिया था, जब यह शब्द भी वजूद में नहीं था। आधुनिक नेचुरोपैथी की शुरुआत यूरोप के नेचर केयर आंदोलन से जुड़ी मानी जाती है। 1880 में स्कॉटलैंड में थॉमस एलिंसन ने हायजेनिक मेडिसिन की वकालत की थी। उनके तरीके में कुदरती खानपान और व्यायाम जैसी चीजें शामिल थीं और वह तंबाकू के इस्तेमाल और ज्यादा काम करने से मना करते थे। 

नेचुरोपैथी शब्द ग्रीक और लैटिन भाषा से लिया गया है। नेचुरोपैथी शब्द जॉन स्टील (1895) की देन है। इसे बाद में बेनडिक्ट लस्ट (फादर ऑफ अमेरिकन नेचुरोपैथी) ने लोकप्रिय बनाया। आज इस शब्द और पद्धति की इतनी लोकप्रियता है कि कुछ लोग तो इसे समय की मांग तक कहने लगे हैं। लस्ट का नेचुरोपैथी के क्षेत्र में काफी योगदान रहा। उनका तरीका भी थॉमस एलिंसन की तरह ही था। उन्होंने इसे महज एक तरीकेकी जगह इसे बड़ा विषय करार दिया और नेचुरोपैथी में हर्बल मेडिसिन और हाईड्रोथेरेपी जैसी चीजों को भी शामिल किया। 

क्या है नेचुरोपैथी ?

यह कुदरती तरीके से स्वस्थ जिंदगी जीने की कला है। मोटे तौर पर कहा जा सकता है कि इस पद्धति केजरिये व्यक्ति का उपचार बिना दवाइयों के किया जाता है। इसमें स्वास्थ्य और रोग के अपने अलगसिद्धांत हैं और उपचार की अवधारणाएं भी अलग प्रकार की हैं। आधुनिक जमाने में भले इस पद्धति कीयूरोप में शुरुआत हुई हो , लेकिन अपने वेदों और प्राचीन शास्त्रों में अनेकों स्थान पर इसका उल्लेखमिलता है। अपने 

देश  नेचुरोपैथी की एक तरह से फिर से शुरुआत जर्मनी के लुई कुहने की पुस्तक न्यूसाइंस ऑफ हीलिंग के अनुवाद के बाद माना जाता है। डी वेंकट चेलापति ने 1894 में इस पुस्तक काअनुवाद तेलुगु में किया था। 20 वीं सदी में इस पुस्तक का अनुवाद हिंदी और उर्दू वगैरह में भी हुआ। इसपद्धति से गांधी जी भी प्रभावित थे। उन पर एडोल्फ जस्ट की पुस्तक रिटर्न टु नेचर का काफी प्रभाव था।

नेचुरोपैथी का स्वरूप 

मनुष्य की जीवन शैली और उसके स्वास्थ्य का अहम जुड़ाव है। चिकित्सा के इस तरीके में प्रकृति केसाथ जीवनशैली का सामंजस्य स्थापित करना मुख्य रूप से सिखाया जाता है। इस पद्धति में खानपानकी शैली और हावभाव के आधार पर इलाज किया जाता है। रोगी को जड़ी -बूटी आधारित दवाइयां दीजाती हैं। कहने का अर्थ यह है कि दवाइयों में किसी भी प्रकार के रसायन के इस्तेमाल से बचा जाता है।ज्यादातर दवाइयां भी नेचुरोपैथी प्रैक्टिशनर खुद तैयार करते हैं।


कौन - कौन से कोर्स  (चिकित्सा एवं योग में उपाधि-पत्र )

इस समय देश में एक दर्जन से च्यादा कॉलेजों में नेचुरोपैथी की पढ़ाई देश में स्नातक स्तर पर मुहैयाकराई जा रही है। इसके तहत बीएनवाईएस ( बैचलर ऑफ नेचुरोपैथी एंड योगा साइंस ) की डिग्री दीजाती है। कोर्स की अवधि साढ़े पांच साल की रखी गई है। 

प्रचलित पाठ्यक्रम C.E.N.Y. (6 माह )

C.N.Y.S.  (एक वर्षीय)

D.N.Y.S. (3 वर्षीय व छह माह का प्रशिक्षण कार्य )

B.N.Y.S. (5 वर्षीय व छह माह का प्रशिक्षण कार्य)

शैक्षिक योग्यता : 10+2

माध्यम – हिन्दी/अंग्रेजी


अवसर 

संबंधित कोर्स करने के बाद स्टूडेंट्स के पास नौकरी या अपना प्रैक्टिस शुरू करने जैसे मौके होते हैं।सरकारी और निजी अस्पतालों में भी इस पद्धति को पॉपुलर किया जा रहा है। खासकर सरकारीअस्पतालों में भारत सरकार का आयुष विभाग इसे लोकप्रिय बनाने में लगा है। ऐसे अस्पतालों मेंनेचुरौपैथी के अलग से डॉक्टर भी रखे जा रहे हैं। अगर आप निजी व्यवसाय करना चाहते हैं , तोक्लीनिक भी खोल सकते हैं। अच्छे जानकारों के पास नेचुरौपैथी शिक्षण केन्द्रों में शिक्षक के रूप में भीकाम करने के अवसर उपलब्ध हैं। आप चाहें तो दूसरे देशों में जाकर काम करने के अवसर भी पा सकतेहैं। 

योग्यता (क्वालिफिकेशन )


अगर आप इस फील्ड में जाकर अपना करियर बनाना चाहते हैं तो आपके पास न्यूनतम शैक्षिक योग्यता12 वीं है। 12 वीं फिजिक्स , केमिस्ट्री और बायोलॉजी विषयों के साथ होनी चाहिए। 
Course content and subject studied in this course: 
MEDICAL SUBJECTSNATUROPATHY & YOGA SUBJECTSAnatomyPhilosophy of nature CurePhysiologyMagneto therapyBiochemistryChromo therapyPathologyManipulative therapy (Massage)BiochemistryAcupuncture & AcupressureCommunity MedicineHydrotherapyModern diagnosisPhysiotherapyFirst Aid & Emergency med.Yogic therapyObst. & Gyn.Diet therapyNutritional Herbs

बॉक्स 

संस्थान 

बोर्ड ऑफ़ कॉम्प्लीमेंट्री एंड अल्टरनेटिव मेडिसिन ,(उ. प्र.)Board of Complementary and Alternative Medicine (बी केम) 

उपलब्ध कोर्सेस : 
१. प्राकृतिक स्वास्थ्यए अवं योग में डिप्लोमा अवं डिग्री कोर्सेज। 
२. वैकल्पिक चिकित्सा पद्तिओं में डिप्लोमा व डिग्री कोर्सेज।
३. योग अवं योग चिकित्सा क्षेत्र में सर्टिफिकेट अवं डिग्री कोर्सेज। 
४. रेकी , तमारा, ऑक्यूप्रेशर, आदि वैकल्पिक चिकित्सा पद्धितयों में डिप्लोमा अवं सर्टिफिकेट कोर्सेस
५. योग अवं ध्यान अभ्यास केंद्र , प्राकृतिक चिकित्सा अस्पताल 
६. योग अवं ध्यान शिविर , सेमिनार, योग अवं प्राकृतिक चिकित्सा मेले आदि 
७. योग अवं प्राकृतिक चिकित्सा में अनुसंधान 
८. योग अवं प्राकृतिक चिकित्सालयों कि स्थापना करना। 
९. योग अवं प्राकृतिक चिकित्सा को बढ़ावा देना। 
१०. योग अवं प्राकृतिक संस्थाओं कि स्थापना करना। 
११. योग अवं प्राकृतिक चिकित्सा को पुरे विष में स्थापित करना अवं जन मानस का प्रकृति कि और झुकाव पैदा करना।
१२. प्राकृतिक जीवन शैली, अवं प्राकृतिक तरीके से जीवन यापन का प्रचार करना। 
१३. प्रकृति का संरक्षण करना अवं ९ अप्रैल को प्राकृतिक चिकित्सा दिवस का प्रयोजन करना।
१४. पिछड़ा वर्ग अवं अनुसूचित जाती / जनजाति के विधार्थिओं के लिए कोर्से में छूट का प्रयोजन करना।

Parliamentary Question.doc Parliamentary Question.doc
Size : 186 Kb
Type : doc

प्राकृतिक चिकित्सा के आधारभूत सिद्धांत

1. सभी रोग एक ,उनका कारण एक और उनकी चिकित्सा भी एक ही है  
         
प्राकृतिक चिकित्सा सिद्धांत के अनुसार सभी रोग वास्तव में एक ही होते हैं। उन रोगों का कारण और उनकी चिकित्सा भी एक समान होती है। प्राकृतिक चिकित्सा विज्ञान का यह अटल सिद्धांत है कि मानव शरीर में एकत्रित एक ही विजातीय द्रव्य अनेक रोगों के रूप में प्रकट होता है। जिन्हें अलग-अलग नामों से जाना जाता है। सभी प्रकार के रोग अनेक होते हुए भी वास्तव में एक ही होते हैं। केवल उनके रूप और प्रकार में भिन्नता होती है। इसे इस प्रकार समझा जा सकता है।
         
मान लेते हैं कि किसी घर में 4 सदस्य एक साथ रहते हैं। चारों लोग अप्राकृतिक रूप से जीवनयापन करते हैं। वे उत्तेजक तथा मादक द्रव्यों का सेवन करते हैं, आवश्यकता से अधिक भोजन करते हैं, परिश्रम नहीं करते हैं तथा निर्मल जल, सूर्य का प्रकाश तथा स्वच्छ वायु आदि प्राकृतिक उपादानों का उचित रूप से भी सेवन भी नहीं करते हैं इसके परिणामस्वरूप उन चारों व्यक्तियों के शरीर का रक्त जहरीला हो जाता है। उनका शरीर दूषित मल (जिसे प्राकृतिक चिकित्सा विज्ञान की भाषा में `विजातीय द्रव्य` कहते हैं।) से भर जाता है। जिसके परिणामस्वरूप चारों सदस्य रोगों से ग्रस्त हो जाते हैं। परिस्थिति, आयु, प्रकृति आदि के अनुसार उन चारों प्राणियों में सभी अलग-अलग बीमारियों से पीड़ित होते हैं जैसे कोई दस्त से पीड़ित हो सकता है, किसी को बुखार हो सकता है, किसी को गठिया का रोग हो सकता है तो किसी को बवासीर होती हैं। ये सभी रोग एक-दूसरे से भिन्न होते हैं किन्तु उनका होने का कारण एक ही होता है। आवश्यकता इस बात कि है कि शरीर के उपस्थिति विजातीय द्रव्यों का बहिष्करण विभिन्न तरीकों से करना जैसे- उपवास और संतुलित आहार से शरीर की जीवनीशक्ति को बढ़ाना तथा जलोपचार, मिट्टी की पट्टी सेंक, मर्दन, एनिमा, आदि से शरीर के मल मार्गों को पूर्णत: खोलकर उनको क्रियाशील कर देना ताकि वे शरीर के मल को आसानी से शरीर से बाहर निकाल सके। उपर्युक्त उदाहरण से स्पष्ट होता है कि वास्तव में संसार के सभी रोग एक ही हैं तथा उनके होने का कारण भी एक ही होता है तथा उन रोगों का निदान और चिकित्सा भी एक ही होती है। प्राकृतिक चिकित्सा के सि़द्धांतों के अनुसार किसी रोग का इलाज करने से सम्बंधित रोग के साथ छोटे-छोटे रोग भी नष्ट हो जाते हैं। इससे यह स्पष्ट होता है कि सभी रोग एक ही होते हैं और वे सभी रोग एक ही प्रकार की चिकित्सा से नष्ट भी हो जाते हैं क्योंकि उन समस्त रोगों के उत्पन्न होने का एक ही कारण होता है -शरीर में मल (विजातीय द्रव्य) का एकत्र हो जाना।

2.
रोग उत्पन्न होने का कारण कीटाणु नहीं होता :
 
उपर्युक्त विवेचन से पूर्ण रूप से यह स्पष्ट हो जाता है कि शरीर में एकत्रित दूषित मल ही रोग के उत्पन्न होने का कारण होता है। इस बात को जान लेने के बाद ही इस बात की थोड़ी सी भी शंका ही नहीं रह जाती है कि वस्तुत: कीटाणु रोगों के कारण नहीं होते हैं। जैसा कि आधुनिक एलोपैथिक चिकित्सकों की धारणा ही नहीं, वरन उनका सिद्धांत भी है। यदि हम नियमित रूप से सही तरीके से आहार ग्रहण करते हैं तो कीटाणु जो पूरे संसार भर में फैले हुए हों हमारे शरीर में प्रविष्ट होकर वहां रह ही नहीं सकते हैं | परन्तु यदि हमारा खानपान अनियमित और आप्राकृतिक होगा तो वे हमारे शरीर में असंख्य कीटाणुओं का रूप धारण करके हमें अवश्य ही रोगी बना डालेंगे। यह एक प्राकृतिक नियम है कि सृष्टि में जितने भी पदार्थ पाये जाते हैं, इनके सूक्ष्म परमाणु अनवरत रूप से गतिशील रहते हैं जिन वस्तुओं के परमाणु समान रूप से गतिशील रहते हैं उनमें परस्पर आकर्षण होता है और विरुद्ध गति वाले परमाणु एक सी गति रखते हैं। अत: इस सिद्धांत के अनुसार रोग के कीटाणुओं का अस्तित्व उन्हीं के शरीरों में सम्भव है जिनमें पहले ही रोग का कारण विजातीय द्रव्य विद्यमान रहते हैं अथवा जो रोगग्रस्त हैं। लेकिन जिन शरीरों के भीतर, कीटाणुओं के विपरीत पोषक तत्व विद्यमान होंगे अर्थात जो विजातीय द्रव्य से सर्वथा मुक्त होंगे और सही अर्थों में जो स्वस्थ होंगे, वहां पर उनका अस्तित्व असंभव है। यदि यह कार्य सम्भव मान भी लिया जाए तो ऐसे मानव शरीरों में निषेधक शक्ति पहले से ही विद्यमान होने के कारण रोगों का प्रभाव नष्ट होकर वह स्वयं ही नष्ट हो जाएंगे। कीटाणु रोग उत्पन्न होने का कारण नहीं होते हैं वरन रोग ही कीटाणुओं का कारण होता है। 

3.
हमारे शरीर में होने वाले रोग हमारे मित्र के समान होते हैं न कि शत्रु-
 
हमारे शरीर में सदैव विजातीय द्रव्य (मल) उत्पन्न होता रहता है, जिसे हमारे शरीर के मलमार्ग, रोमकूप, गुर्दे, गुदा आदि प्रतिदिन निकालते रहते हैं। यदि किसी कारण से उस मल को बाहर निकलने का रास्ता नहीं मिलता है तो वह शरीर में रोग उत्पन्न करके बाहर निकल जाने का प्रयास करता है। इसी स्थिति को रोग होना कहते हैं। इस तथ्य को समझ लेने के बाद यह स्पष्ट हो जाता है कि आवश्यकता पड़ने पर मनुष्य को रोग होना कितना आवश्यक है। इसे दूसरे शब्दों में कहें तो रोग हमारे मित्र होते हैं, शत्रु नहीं, जो हमें स्वास्थ्य देने आते हैं, स्वास्थ्य लेने नहीं। इस बात को हम इस उदाहरण के द्वारा समझ सकते हैं।
         
मान लेते हैं कि प्रकृति को हमारे शरीर में उपस्थित विजातीय द्रव्य (मल) को शरीर से बाहर निकालना है तो इस कार्य के लिए वह उल्टी और दस्त का सहारा लेती है, इसके साथ ही अधिक प्यास भी लग सकती है, यदि उसे मस्तिष्क को साफ करना है तो जुकाम होगा, प्यास अधिक लगेगी तथा नाक के रास्ते के द्वारा पानी बहेगा। जिसे हम सभी लोग समझते हैं वह वास्तव में चिकित्सा होती है। रोग होने पर हमें सतर्कतापूर्वक अपनी गलतियों को देखना चाहिए और विचार करना चाहिए कि हमारे द्वारा प्रकृति के नियमों को न अपनाये जाने के कारण हमें प्रकृति का दंड मिल रहा है। इसका प्रायश्चित रोगी बनकर करना पड़ रहा है। यह हमारे लिए ही लाभकारी होता है क्योंकि यह विकार शरीर में रह जाते तो हमारी गलतियों का क्रम जारी रहता जिसके फलस्वरूप हमें भविष्य में अधिक भयंकर परिणाम भुगतना पड़ता। हमें रोगों से पीड़ित होने के बाद घबराना नहीं चाहिए बल्कि सच्चे मन से उसकी चिकित्सा करनी चाहिए।
विशेष :
 
वास्तव में तीव्र रोगों का मुख्य कार्य हमें हमारे शरीर में उपस्थित विजातीय द्रव्यों के प्रति सचेत करना होता है। इसका कारण यह है कि रोगी में या तो जीवनीशक्ति बहुत कम होती है अथवा शरीर में स्थिति विजातीय द्रव्य की मात्रा अत्यधिक होती है या फिर उसका उपचार अपर्याप्त या हानिकर हुआ होता है। ऐसी स्थिति में प्रकृति अपनी सफाई का कार्य करने में असफल रह जाती है तो रोगी की मृत्यु हो जाती है। थककर सोने में जो सुख मिलता है या भोजन करने से व्यक्ति को शांति मिलती है उसी प्रकार की सुखशांति व्यक्ति को रोग से मुक्त होने के बाद मिलती है। रोग से मुक्त होने के बाद ऐसा प्रतीत होता है कि उसका शरीर हल्का हो गया है तथा उसका शरीर नया हो गया है और एक बोझा उसके सिर से नीचे उतर गया है। यदि रोगी को इन सभी  बातों की अनुभूति (महसूस) नहीं होती है तो हमें यह समझना चाहिए कि रोग पूर्ण रूप से ठीक नहीं हुआ है।

4.
प्रकृति स्वयं चिकित्सक होती है - 
 
प्राकृतिक चिकित्सा में यह माना जाता है कि जीवन का संचालन एक विचित्र और सर्वशक्तिमान सत्ता द्वारा होता है जो प्रत्येक व्यक्ति के पार्श्व में रहकर जन्म होने, मरने, स्वास्थ्य और रोग आदि बातों की देखभाल करती है। उस महान शक्ति को प्राकृतिक चिकित्सक ``जीवनीशक्ति `` कहते हैं। ईश्वर में विश्वास रखने वाले लोग इसे ईश्वरी शक्ति कहते हैं और ईश्वर को न मानने वाले उसे प्रकृति मानते हैं। हमारे शरीर में यही शक्ति रोग से मुक्ति देकर हमें अरोग्यता भी प्रदान करती है। प्राकृतिक चिकित्सा वह शक्ति है जो हमारे शरीर के आंतरिक भाग में निहित होती है। केवल यही हमारे स्वास्थ्य को बनाये रख सकती है और रोग को दूर कर सकती है।

5.
चिकित्सा रोग की नहीं, रोगी के सम्पूर्ण शरीर की होती है- 
 
चिकित्सा की अन्य पद्धतियों में रोगी के रोग की चिकित्सा पर अधिक जोर दिया जाता है। किन्तु प्राकृतिक चिकित्सा पद्धति में रोगी के सम्पूर्ण शरीर की चिकित्सा करके उसे रोग से मुक्त किया जाता है। जिससे रोग के निशान स्वयं ही मिट जाते हैं। वस्तुत: रोग तो शरीर के भीतर एकत्रित हुआ मल होता है जो समय पाकर रोग विशेष क्रिया द्वारा बाहर निकल जाने का प्रयत्न करता है। इसलिए रोग की चिकित्सा करते समय रोग के कारणों को ढूंढ़कर उनका इलाज करना चाहिए जैसे सिरदर्द होने पर सिरदर्द की दवा नहीं होनी चाहिए बल्कि सिरदर्द होने का कारण पाचनसंस्थान का दोष अथवा पूरे शरीर के रक्तविकार की चिकित्सा होनी चाहिए। जिससे सिर का दर्द स्वयं ही समाप्त हो जाएगा। प्राकृतिक चिकित्सा प्रणाली द्वारा सभी प्रकार के रोगों को ठीक किया जा सकता है लेकिन सभी रोगियों को नहीं। रोगी का अच्छा होना अथवा न होना निम्नांकित 5 बातों पर निर्भर करता है।
1.
रोगी के शरीर में एकत्रित विजातीय द्रव्य (मल) कितनी मात्रा में है।
2.
रोग को नष्ट करने के लिए उपयोगी जीवनीशक्ति रोगी के शरीर में है अथवा नहीं है।
3.
रोगी अपने रोग का कितना इलाज कर चुका है अथवा कर रहा है, कहीं वह धैर्य को तो नहीं खो रहा है।
4.
रोग से पीड़ित व्यक्ति प्राकृतिक चिकित्सा प्रणाली में विश्वास रखता है अथवा नहीं। 
     
उपयुक्त बातों को हम एक उदाहरण द्वारा समझ सकते हैं।
मान लीजिए कि टी.बी. की बढ़ी हुई अवस्था में प्राकृतिक चिकित्सा करने पर भी बहुत से रोगी मर जाते हैं। लेकिन यह निश्चित होता है कि प्राकृतिक चिकित्सा के बीच के समय मरने वालों की मृत्यु शांतिदायनी होती है। उपवास, फलाहार आदि के द्वारा रोगी का शरीर निर्मल हो जाता है जिसके कारण मरते समय व्यक्ति को किसी भी प्रकार का कष्ट नहीं होता है। कभी-कभी ऐसा होता है कि आरम्भ से ही प्राकृतिक चिकित्सा होने के बावजूद रोगी की मृत्यु हो जाती है जिसमें रोगी के पैतृक रोग उसकी कमजोर जीवनीशक्ति और उसके पूर्व संस्कार के कारण होते हैं। प्राकृतिक चिकित्सकों का दावा होता है कि प्राकृतिक चिकित्सा से कभी भी किसी को हानि नहीं हो सकती है। ऐसा कभी भी नहीं होता है कि अन्य चिकित्सा प्रणालियों से बच सकने वाला रोगी प्राकृतिक चिकित्सा से न बच सके और मर जाए।

6.
प्राकृतिक चिकित्सा के द्वारा रोग का उपचार :
यदि प्रकृति को यह स्वीकार होता कि रोग अथवा निरोगी होने की अवस्था में चिकित्सक निदान के लिए मनुष्य के शरीर के भीतरी अवयवों (हृदय, वृक्क, आन्तों आदि) को और उनमें होने वाली स्पंदन (कंपन, धड़कन) आदि प्राकृतिक क्रियाओं का होना देख सके तो वह मनुष्य के शरीर पर अपारदर्शी चमड़े और मांस का खोल चढ़ाकर उसे मजबूती के साथ नहीं जकड़ती, बल्कि मानव शरीर पर एक ऐसी झिल्ली लगी होती है कि जिसके माध्यम से डाक्टर रोग को आसानी से देख पाते हैं कि शरीर के भीतर के अंगों में क्या गड़बड़ी है और इस तरह रोग के इलाज करने में उन्हें सरलता होती, किन्तु ऐसा नहीं है। इससे यह स्पष्ट होता है कि प्रकृति यह कभी भी नहीं चाहेगी कि कोई भी व्यक्ति बिना किसी कारण के परेशान हो। प्रकृति और परमात्मा के छिपे हुए रहस्यों का पता लगाने का दावा करने वाला मानवकृत विभिन्न नवीनतम चिकित्सीय यंत्रों से रोगों का पता लगाने वाले अर्थात रोगों का उपचार करने वाले के 90 प्रतिशत उपचार गलत होते हैं। बाकी बचे हुए 10 प्रतिशत महज इत्तेफाक (संयोग) होता है। यदि थोड़ी देर के लिए यह भी मान भी लिया जाए कि रोग का इलाज हो गया है किन्तु इलाज हो जाने से रोग का पता नहीं भी नहीं चलता है। इस सम्बंध में बड़े-बडे़ डाक्टरों का अनुभव बताता है कि औषधोपचार पद्धति में रोग का सही उपचार हो जाने के बावजूद भी कुछ रोग जीर्ण रोगों में परिवर्तित हो जाते हैं। शरीर में विजातीय द्रव्यों का एकत्र होना ही रोग होता है। इसके लिए एक प्राकृतिक चिकित्सक को केवल इतना देखना होता है कि वह द्रव्य शरीर के किस भाग में स्थित है इसके उदाहरण मोटे आदमी होते हैं। यदि यह सामान्य हुआ तो उसे प्राकृतिक उपचार द्वारा शीघ्र ही दूर किया जा सकता है। इसके अतिरिक्त रोगी के मुख और गर्दन की स्थिति, त्वचा के बदले हुए रंग को देखकर, उसके रोग से पीड़ित होने का कारण रोगी से पूछकर भी रोग का इलाज कर लिया जाता है। प्राकृतिक चिकित्सा का सिद्धांत प्रत्येक स्थिति में यहीं रहता है कि यह पता लगाया जाए कि रोगी के शरीर के किस भाग में किस अंग विशेष पर विजातीय द्रव्य का भार अधिक है। जिसे सूक्ष्म नज़रों से देखने से न केवल एक प्राकृतिक चिकित्सक ही नहीं बल्कि कोई भी जनसाधारण व्यक्ति भी देख सकता है।
         
इस प्रकार हम देखते हैं कि प्राकृतिक चिकित्सा के रोगोपचार की विधि भी उतनी ही सहज और सरल होती है, जितनी की उसकी चिकित्सा विधि। इसमें भटकने और बहकने का तनिक भी भय भी नहीं होता है।

7.
प्राकृतिक चिकित्सा द्वारा जीर्ण रोगों के ठीक होने में अधिक समय लगता है- 
 
वर्तमान समय में सभी प्रचलित चिकित्सा पद्धतियों में प्राकृतिक चिकित्सा सबसे अधिक तेज रफ्तार वाली चिकित्सा है, मगर दिक्कत यह है कि व्यक्ति सभी तरह चिकित्सा कराने के बाद ही प्राकृतिक चिकित्सा की शरण में आता है, मगर तब तक वह रोग असाध्य हो चुका होता है। इस समय तक रोगी केवल रोग से ही नहीं बल्कि उसके इलाज हेतु दी गई दवाओं के जहर से भी पीड़ित होता है। इस प्रकार प्राकृतिक चिकित्सक को मुख्य रोग का इलाज करने के साथ-साथ ही उन दवाओं के विषों को भी शरीर के द्वारा निकालना पड़ता है जिसमें महीनों से लेकर सालों तक का समय लग सकता है। इसके अतिरिक्त प्राकृतिक चिकित्सा में निरोग होने का मतलब केवल रोग ही नहीं, बल्कि रोगी को नया जीवन प्रदान करना, शरीर को पूर्णरूप से तन्दुरुस्त, मजबूत और शक्तिशाली होना भी होता है। अत: स्वास्थ्य लाभ की इस प्रक्रिया में काफी अधिक समय भी लग सकता है।
         
प्रकृति के सभी कार्य तेजी से नहीं बल्कि धीरे-धीरे होते हैं। जो शक्ति धीरे-धीरे संचित होती है वह इकटठे होने के बाद बडे़ से बड़े पर्वत को भी नष्ट कर सकती है। कोई भी ऐसी शक्ति नहीं है जो बीज को तुरंत पेड़ का आकार दे दे। एक कहावत प्रचलित है कि जल्दी का काम शैतान का होता है। पेड़ काट डालना मिनटों का काम होता है जबकि पेड़ उगाना वर्षों का काम होता है। प्रकृति की नियमावली में संहार जल्दी सम्भव होता है किन्तु विकास जल्दी सम्भव नहीं होता है। चिकित्सकों के अनुसार रोग भी एक विकास है। वह न तो छूत का परिणाम है और न ही बाहर से आकर शरीर में घर करता है रोग का विकास और विनाश धीरे-धीरे होता है। जब हमारे शरीर में रोग के चिन्ह प्रकट होते हैं तो हमें यह नहीं समझना चाहिए कि रोग अभी ही प्रकट हुआ है। जबकि रोग तो बहुत पहले से ही हमारे शरीर में प्रवेश कर चुका होता है। इसी प्रकार इलाज के बाद रोग के चिन्ह मिट जाने के बाद भी हमें यह नहीं समझना चाहिए कि रोग पूरी तरह से नष्ट हो गया है। रोग पूरी तरह से ठीक होने में काफी समय लगता है। इलाज के काफी समय बाद रोग का बीज नष्ट होता है तथा रोगी नवजीवन और दीर्घायु प्राप्त करता है। इसमें संदेह होता है कि रोग से जल्दी छुटकारा न मिलने के कारण, रोगी का धैर्य छूट जाना स्वाभाविक होता है, किन्तु उसकी अधीरता को भी हमें उसके रोग का ही एक अंग समझकर उसे धैर्य धारण कराना चाहिए और चिकित्सा क्रम जारी रखकर उसको स्वस्थ बनाना चाहिए।

8.
प्राकृतिक चिकित्सा से दबे हुए रोग उभरते हैं- 
 
औषधीय उपचार से रोग दबे रह जाते हैं। इसकी तुलना में प्राकृतिक चिकित्सा प़द्धति से रोगों का उपचार करने से दबे हुए रोग भी उभरकर जड़ सहित हमेशा के लिए नष्ट हो जाते हैं।
         
प्राकृतिक चिकित्सा में रोगों के उभार को चिकित्सीय भाषा में रोग का तीव्र रूप, रोग की अपकर्षावस्था, पुराने और प्रत्यावर्तन, रोग उपशन संकट आदि विभिन्न नामों से जाना जाता है। इसका अर्थ यह होता है कि जीर्णरोग के समय ही उस रोग की तीव्र प्रतिक्रिया का होना अथवा दबे रोग का प्राकृतिक चिकित्सा द्वारा उपचार प्राप्त जीवनीशक्ति के प्रभाव से रोग जड़ सहित नष्ट हो जाता है जिससे रोगी स्वस्थ हो जाता है।
         
रोगों का उभार साधारणतया 2-4 दिन अथवा अधिक से अधिक 7 दिनों तक में समाप्त हो जाता है और शरीर को रोगों से छुटकारा मिल जाता है। उभार की क्रिया में यह एक अद्भुत बात है कि रोगी के शरीर में जितने भी रोग दबे होते हैं उभार काल में उसके विपरीत क्रम से एक-एक रोग उभरते हैं और नष्ट होते जाते हैं। प्रत्येक दो रोगों के बीच में कुछ अंतर होता है जैसे- किसी रोगी को पहले दस्त की बीमारी हुई तथा दवाओं के सेवन के बाद वह दब गई। इसके बाद बुखार हुआ और वह भी दवा के कारण नष्ट हो गया। हमारे शरीर के पुराने रोगों को शरीर से बाहर निकालने में प्रकृति को एक निश्चित समय तक कार्य करना पड़ता है।
विशेष :
         
लोगों को मल-मूत्र त्याग करते समय जो भी थोड़ी सी परेशानी होती है वह प्राकृतिक चिकित्सा का उभार होता है क्योंकि मल-मूत्र त्याग के बाद हमारा शरीर पहले से हल्का प्रतीत होता है। महिलाओं में प्रतिमाह मासिकधर्म का होना, प्रसव के समय होने वाला दर्द, पके हुए फोड़े का असहनीय दर्द और टीसन तथा शरीर में चुभे हुए कांटे को निकालते समय का दर्द आदि सभी `प्राकृतिक उभार` क्रिया के ही उदाहरण हैं। सभी तीव्र रोग जैसे हैजा, ज्वर, चेचक आदि हमारे मल से भरे शरीर से, शरीर की जीवनीशक्ति द्वारा, मल को अधिक वेग के साथ निकाल फेंकने में शीघ्रता करते हैं, उसे हम रोगों का तीव्र या तीव्र उपशम संकट कहते हैं।
         
इस प्रकार स्पष्ट होता है कि रोगों के इलाज के समय में रोग का उभार होना कितना कल्याणकारी, मंगलमय और आवश्यक है, जिससे हमें बिल्कुल भी घबराना और डरना नहीं चाहिए। हालांकि उभार को जल्दी लाने और उसे तेजी से नष्ट करने की कोशिश नहीं करनी चाहिए क्योंकि इस समय जल्दबाजी करना हमारे स्वास्थ्य के लिए हानिकारक हो सकता है। प्रकृति द्वारा धीरे-धीरे कार्य करने का नियम यहां भी अपनाना चाहिए। परेशान करने वाले उभार उन्हीं व्यक्तियों में होते हैं जो व्यक्ति रोगों के उपचार के लिए पहले ही विषाक्त औषधियों का सेवन कर चुके होते हैं और जिनको निकालने में प्राकृतिक चिकित्सक अधिक जल्दी करते हैं। जो लोग प्राकृतिक जीवनयापन करते हैं और दवाओं से बचे रहते हैं उनके बीमार पड़ने के बाद ठीक होने के समय उभार होते ही नहीं हैं या तो बहुत अधिक हल्के होते हैं और इतने से ही पूरी तरह से स्वस्थ हो जाते हैं।
 
9.
प्राकृतिक चिकित्सा से मन, शरीर तथा आत्मा तीनों स्वस्थ होते हैं-
 
हमारा शरीर, मन और आत्मा तीनों का परस्पर सामंजस्य ही पूर्ण स्वास्थ्य होता है। प्राकृतिक चिकित्सा में इन तीनों की स्वास्थ्योन्नति पर बराबर ध्यान रखा जाता है। प्राकृतिक चिकित्सा प्रणाली की यह सबसे बड़ी विशेषता होती है। प्राकृतिक चिकित्सक मनुष्य के मानसिक स्वास्थ्य को उसके शारीरिक स्वास्थ्य से अधिक आवश्यक समझते हैं। एक प्राकृतिक चिकित्सक की दृष्टि में मनुष्य शरीर के स्वास्थ्य का सम्बंध उसके मन और आत्मा से भी होता है।
         
प्राकृतिक जीवन, रहन, सहन, तथा प्राकृतिक आहार हमारे जीवन में सात्विकता लाकर हमारे शरीर को स्वस्थ रखते हैं ये हमारे मन का संयम करके हमें आध्यात्म की ओर ले जाते हैं। यह असत्य नहीं है कि यदि मानव जाति प्राकृतिक चिकित्सा दर्शन को अपनाए तो निर्दयता, पाशुविकता, पैशाचिकता तथा हिंसा का स्थान इस संसार में बचेगा ही नहीं और पृथ्वी पर स्वर्ग उतर आएगा। रोगी शरीर, निर्बल आत्मा और कलुषित मन तीनों के इलाज हेतु अपने आराध्य की प्रार्थना अथवा राम के नाम का जाप करना ही चिकित्सा होती है।

10.
प्राकृतिक चिकित्सा के द्वारा रोग के उपचार में उत्तेजक औषधियों का सेवन नहीं करना चाहिए - 
औषधियों के द्वारा रोगों के उपचार का सिद्धांत है कि रोग बाहरी चीज है और वह हमारे शरीर में अचानक आक्रमण के समान आते हैं। इसलिए अधिक शक्तिशाली से शक्तिशाली औषधियों का प्रयोग करके रोगों से लड़ना चाहिए। इसीलिए डाक्टर और वैद्य जहरीली औषधियों जैसे पारा, अफीम, संखिया आदि का प्रयोग करके रोगों को नष्ट करने का प्रयास करते हैं और इस बात को नज़रअंदाज (अनसुनी) कर देते हैं कि सेवन के लिए दी जाने वाली औषधियां विष ही हैं। चाहे उसकी मात्रा कम हो या अधिक हो उसका सेवन हमारे शरीर के लिए अधिक घातक और हानिकारक होता है। जहरीली वस्तुओं के सेवन से रोग घटने के स्थान पर बढ़ने लगता है। इसलिए प्राकृतिक चिकित्सा प्रणाली में उत्तेजक और जहरीले पदार्थों का सेवन अनावश्यक ही हमारे शरीर के लिए हानिकारक होता है। इसका कारण यह है कि प्राकृतिक चिकित्सा का सिद्धांत औषधीय चिकित्सीय प्रणाली से बिल्कुल ही अलग है। प्राकृतिक चिकित्सा प्रणाली में रोग बाहरी चीज नहीं बल्कि शरीर के आंतरिक भाग की चीज मानी जाती है। जिसे प्राकृतिक साधनों द्वारा दूर किया जाता है अर्थात जिन प्राकृतिक उपायों को अपनाकर हम रोगों से बचे रहते हैं, उन्हीं तरीकों को अपनाकर हम रोगों को नष्ट करते हैं।
         
प्राकृतिक चिकित्सक औषधियों को हमारे शरीर के लिए अनावश्यक ही नहीं बल्कि हानिकारक भी मानते हैं। प्रकृति स्वयं ही एक चिकित्सक होती है, यह दवा नहीं हैं। औषधियों का काम रोग को छुड़ाना नहीं है। औषधि तो वह सामग्री है जो प्रकृति के द्वारा रोगों को नष्ट करने के लिए प्रयोग की जाती है। प्राकृतिक चिकित्सा में औषधि की यही वास्तविक परिभाषा होती है।
         
सभी प्रकार के खाद्य-पदार्थ औषधीय गुणों से भरे होते हैं जैसे हवा, जल, सूर्य का प्रकाश से लेकर फल, सब्जी और विषहीन जड़ी-बूटियां तक जो खाद्य वस्तुओं के समान ही प्रयोग की जा सकती हैं औषधि कहलाती हैं। प्राकृतिक चिकित्सा के अंतर्गत यहीं खाद्य-पदार्थ औषधियां और आहार दोनों ही होते हैं। इसी तरह से काष्ठ औषधियां भी प्राकृतिक चिकित्सा के अंतर्गत आती हैं किन्तु शर्त यह है कि वे अनुत्तेजक और चिकित्सा के अंतर्गत हैं। प्राकृतिक चिकित्सा में काष्ठ औषधोपचार और खाद्योपचार एक ही वस्तु के दो नाम होते हैं। प्राय: सभी उद्भिज पदार्थों में जो मनुष्य के भोजन के अंश हो सकते हैं, प्राणकणों के लिए अच्छी और ताजी काष्ठ औषधियां होती हैं जिनका प्रयोग प्राकृतिक चिकित्सा के रोगी के स्वभाव की सहायता पहुंचाने के लिए किया जाता है।

जनहित में जारी :

रियायती मूल्य पर प्राकृतिक चिकित्सा एवं योग सम्बन्धी कोर्सेज़  अथवा किताबे पुस्तके ख़रीदने के लिए संपर्क करें

ग़रीबों के लिये प्राकृतिक चिकित्सा एवं योग  Naturopathy and Yoga निशुल्क पुस्तकें 

 प्राकृतिक चिकित्सा एवं योग का ऑनलाइन प्रशिक्षण

 

  प्रशिक्षण के लाभ 

आप प्राकृतिक चिकित्सा,योग एवं घरेलू उपायों का प्रशिक्षण प्राप्त कर स्वयं स्वस्थ्य रहने की विधि सीखेंगे साथ ही अपने घर-परिवार व परिचितों को भी स्वस्थ्य रख सकेंगे .

प्रशिक्षण के बाद आप चाहें तो अपना प्राकृतिक चिकित्सा परामर्श केंद्र भी खोल सकते हैं .

योग सीखने  के बाद आप योग की ट्यूशन भी कर सकते हैं या अपना योग केंद्र प्रारंभ कर सकते हैं .

प्रशिक्षण के बाद BCAM  द्वारा प्रमाण-पत्र प्रदान किया जायेगा .

 

प्राकृतिक चिकित्सा होम्योपैथी, हर्बलिज्म, और एक्यूपंक्चर, साथ ही आहार और जीवन शैली परामर्श सहित “” प्राकृतिक उपचार, की एक विस्तृत सरणी रोजगार वैकल्पिक चिकित्सा का एक रूप है।

 

Tentative schedule of Workshop Deptt. of Yoga and Naturopathy 

आयुष का अर्थ आयुष्य से है, और यह किसी  चिकित्सा पद्धति  विशेष के लिए न होकर जीवन को बचाने एवं रोगमुक्त समाज के निर्माण एवं आयुष्य को सुखायु के रूप में प्राप्त करने से हैIआचार्य चरक के दर्शन को यदि देखें तो उन्होंने कहा है,क़ी मानव को रोगमुक्त रखने हेतु प्रयुक्त किये  जानेवाले संपूर्ण द्रव्य औषधि हैं Iयदि चिकित्सक मात्रा  ,काल एवं प्रयोग क़ी प्रायोगिक  जानकारी रखकर उक्त द्रव्य का प्रयोग चिकित्सा हेतु करता है, तो वह द्रव्य अमृत तुल्य औषधि होगी,अन्यथा वह विष का कार्य करेगीIकोई भी   चिकित्सा  पद्धती  पूर्ण  नहीं हो सकती,जैसे क़ी ज्ञान संपूर्ण नहीं  हो सकताI.ज्ञान अनवरत शोध क़ी परिणति से प्राप्त अमृत  है, तथा इसे कोई भी कहीं से प्राप्त कर सकता हैIआधुनिक चिकित्सा  विज्ञान जिसे आज एलॉपथी कहते हैं, वह  भी प्राचीन परम्पराओं से कालक्रम में निरंतर  शोध क़ी परिणति के उपरान्त प्राप्त एक विज्ञान हैंI.आयुष पद्धति  का महत्वपूर्ण   भाग होमीओपैथी के जनक हेनिमेंन का व्यक्तित्व भी हमें काफी कुछ बतलाता हैIएलोपेथिक चिकित्सक होने के बावजूद उन्होंने सूक्ष्म सिद्धांतों से  होमोपैथी नामक चिकित्सा पद्धति को विकसित कियाIभले  ही आज ब्रिटेन जैसे देशों में इसे प्लेसबो ट्रीटमेंट नाम दिया जा रहा हो, परन्तु इस प्रभाव के द्वारा भी दु:खी व्यक्ती  को लाभ तो मिलता ही हैIआवश्यकता आयुर्वेद,होमियोपैथ ,यूनानी,सिद्ध,नेचुरोपैथी ,योग आदि के प्रभावों का वैज्ञानिक विश्लेषण कर अपने सीमाओं के अंदर हर पद्धति के विकास तथा  सामंजस्य क़ी, तभी मानवता का कल्याण होगा.तथा स्वस्थ  प्रतिस्पर्धात्मक विज्ञान के रूप में   चिकित्सा जगत का विस्तार संभव होगा.

Naturopathy

Naturopathy or naturopathic medicine is a form of alternative medicine employing a wide array of "natural" modalities, including homeopathy,herbalism, and acupuncture, as well as diet and lifestyle counseling. Naturopaths favor a holistic approach with non-invasive treatment and generally avoid the use of surgery and drugs. Naturopathic medicine contains many pseudoscientific concepts and is considered ineffective and can be harmful, which raises ethical issues.[1][2][3] Naturopaths have repeatedly been accused of being charlatans and practicing quackery.[1][4][5][6][7][8]

Much of the ideology and methodological underpinnings of naturopathy are based on vitalism and self-healing, rather than evidence-based medicine.[9] Naturopathic education contains little of the established clinical training and curriculum completed by primary care doctors, as naturopaths mostly train by studying unscientific notions and practicing unproven interventions and diagnoses.[1][10] Naturopaths tend to opposevaccines and teach their students anti- and alternative vaccine practices, resulting in lower vaccination rates.[11][12][13][14] According to the American Cancer Society, "scientific evidence does not support claims that naturopathic medicine can cure cancer or any other disease."[15]

The term "naturopathy" was created from "natura" (Latin root for birth) and "pathos" (the Greek root for suffering) to suggest "natural healing".[16]Modern naturopathy grew out of the Natural Cure movement of Europe. According to the Merriam-Webster Dictionary, the first use in print that can be found is from 1901.[17] The term was coined in 1895 by John Scheel and popularized by Benedict Lust, the "father of U.S. naturopathy".[18]Beginning in the 1970s, there was a revival of interest in the United States and Canada, in conjunction with the "holistic health" movement.

Contents

  [hide

o    2.1Methods

o    3.1Licensure

o    3.2Traditional naturopaths

o    3.3Evidence basis

o    3.4Treatments and practices

o    3.5Safety of natural treatments

o    3.6Vaccination

o    4.1Australia

o    4.2India

o    4.3North America

o    4.4United Kingdom

o    4.5Switzerland



History

Monsignor Sebastian Kneipp, 1821–1897

Benedict Lust, 1872–1945

Naturopaths claim the ancient Greek "Father of Medicine", Hippocrates, as the first advocate of naturopathic medicine, before the term existed.[16][19]Naturopathy has its roots in the 19th-century Nature Cure movement of Europe.[20][21] In ScotlandThomas Allinson started advocating his "Hygienic Medicine" in the 1880s, promoting a natural diet and exercise with avoidance of tobacco and overwork.[22][23]

The term naturopathy was coined in 1895 by John Scheel,[24] and purchased by Benedict Lust, the "father of U.S. naturopathy".[18] Lust had been schooled in hydrotherapy and other natural health practices in Germany by Father Sebastian Kneipp; Kneipp sent Lust to the United States to spread his drugless methods.[5] Lust defined naturopathy as a broad discipline rather than a particular method, and included such techniques as hydrotherapy, herbal medicine, and homeopathy, as well as eliminating overeating, tea, coffee, and alcohol.[25] He described the body in spiritual and vitalistic terms with "absolute reliance upon the cosmic forces of man's nature".[26]

In 1901, Lust founded the American School of Naturopathy in New York. In 1902 the original North American Kneipp Societies were discontinued and renamed "Naturopathic Societies". In September 1919 the Naturopathic Society of America was dissolved and Benedict Lust founded the American Naturopathic Association to supplant it.[18][27] Naturopaths became licensed under naturopathic or drugless practitioner laws in 25 states in the first three decades of the twentieth century.[18] Naturopathy was adopted by many chiropractors, and several schools offered both Doctor of Naturopathy (ND) and Doctor of Chiropractic (DC) degrees.[18] Estimates of the number of naturopathic schools active in the United States during this period vary from about one to two dozen.[15][18][24]

After a period of rapid growth, naturopathy went into decline for several decades after the 1930s. In 1910 the Carnegie Foundation for the Advancement of Teaching published the Flexner Report, which criticized many aspects of medical education, especially quality and lack of scientific rigour. The advent ofpenicillin and other "miracle drugs" and the consequent popularity of modern medicine also contributed to naturopathy's decline. In the 1940s and 1950s, a broadening in scope of practice laws led many chiropractic schools to drop their ND degrees, though many chiropractors continued to practice naturopathy. From 1940 to 1963, the American Medical Association campaigned against heterodox medical systems. By 1958 practice of naturopathy was licensed in only five states.[18] In 1968 the United States Department of Health, Education, and Welfare issued a report on naturopathy concluding that naturopathy was not grounded in medical science and that naturopathic education was inadequate to prepare graduates to make appropriate diagnosis and provide treatment; the report recommends against expanding Medicare coverage to include naturopathic treatments.[15][28] In 1977 an Australian committee of inquiry reached similar conclusions; it did not recommend licensure for naturopaths.[29] As of 2009, fifteen U.S. states, Puerto Rico, the US Virgin Islands and the District of Columbia licensed naturopathic doctors,[30]and the state of Washington requires insurance companies to offer reimbursement for services provided by naturopathic physicians.[31][32] South Carolina and Tennessee prohibit the practice of naturopathy.[33][34][35]

Beginning in the 1970s, interest waxed in the United States and Canada in conjunction with the holistic health movement.[18][25]

Practice

Naturopathic practice is based on a belief in the body's ability to heal itself through a special vital energy or force guiding bodily processes internally.[1] Diagnosis and treatment concern primarily alternative therapies and "natural" methods that naturopaths claim promote the body's natural ability to heal.[25][36] Naturopaths focus on a holistic approach, often completely avoiding the use of surgery and drugs.[15][37] Naturopaths aim to prevent illness through stress reduction and changes to diet and lifestyle, often rejecting the methods of evidence-based medicine.[9][38]

A consultation typically begins with a lengthy patient interview focusing on lifestyle, medical history, emotional tone, and physical features, as well as physical examination.[25]Many naturopaths present themselves as primary care providers, and some naturopathic physicians may prescribe drugs, perform minor surgery, and integrate other conventional medical approaches such as diet and lifestyle counselling with their naturopathic practice.[25][39] Traditional naturopaths deal exclusively with lifestyle changes, not diagnosing or treating disease. Naturopaths do not generally recommend vaccines and antibiotics, based in part on the early views that shaped the profession, and they may provide alternative remedies even in cases where evidence-based medicine has been shown effective.[3]

Methods

A 2004 survey determined the most commonly prescribed naturopathic therapeutics in Washington State and Connecticut were botanical medicines, vitamins, minerals, homeopathy, and allergy treatments.[40]

The particular modalities used by a naturopath vary with training and scope of practice. These may include herbalismhomeopathy,[40] acupuncture, nature cures, physical medicineapplied kinesiology,[41] colonic enemas,[5] chelation therapy,[4] color therapy,[41] cranial osteopathyhair analysisiridology[41] live blood analysisozone therapy,[15]psychotherapypublic health measures and hygiene,[38] reflexology,[41] rolfing,[27] massage therapy, and traditional Chinese medicineNature cures include a range of therapies based on exposure to natural elements such as sunshine, fresh air, or heat or cold, as well as nutrition advice such as following a vegetarian and whole food diet, fasting, orabstention from alcohol and sugar.[42] Physical medicine includes naturopathic, osseous, or soft tissue manipulative therapysports medicineexercise, and hydrotherapy. Psychological counseling includes meditationrelaxation, and other methods of stress management.[42]

Practitioners

Naturopathic practitioners in Switzerland can be divided into three groups: those with federal diploma, those recognized by health insurances, and those with neither federal diploma nor recognition by health insurances. Naturopaths with federal diploma can be divided into four categories: European traditional medicine, Chinese traditional medicine, ayurvedic medicine and homeopathy.[43][44] The number of listed naturopaths (including traditional healers) in Switzerland rose from 223 in 1970 to 1835 in 2000.[45]

Naturopathic practitioners in the United States can be divided into three groups: naturopathic physicians, traditional naturopaths, and other health care providers who offer naturopathic services.[15][46][47][48][49]

Licensure

Naturopathic doctors are licensed in 17 US states and 5 Canadian provinces.[50] In jurisdictions where naturopathic doctor (ND or NMD) or a similar term is a protected designation, naturopathic doctors must pass the Naturopathic Physicians Licensing Examinations administered by the North American Board of Naturopathic Examiners (NABNE)[51] after graduating from a college accredited by the Council on Naturopathic Medical Education (CNME).[39]

Naturopathic doctors are not eligible for medical residencies, which are available exclusively for medical doctors and doctors of osteopathic medicine. There are limited post-graduate "residency" positions available to naturopathic doctors offered through naturopathic schools and naturopathic clinics approved by the Council on Naturopathic Medical Education.[52] Most naturopathic doctors do not complete such a residency,[40] and naturopathic doctors are not mandated to complete one for licensure,[15] except in the state of Utah.[53]

In 2005, the Massachusetts Medical Society opposed licensure based on concerns that NDs are not required to participate in residency and concerns that the "practices" of naturopaths included many "erroneous and potentially dangerous claims."[54] The Massachusetts Special Commission on Complementary and Alternative Medical Practitioners rejected their concerns and recommended licensure.[55]

Many naturopaths present themselves as primary care providers.[25][39] Doctor of Naturopathy training includes basic medical diagnostic tests and procedures such as medical imaging and blood tests, as well as vitalism and pseudoscientific modalities such as homeopathy.[1][4][5][25]

Continuing education in naturopathic modalities for health care professionals varies greatly.[41]

Traditional naturopaths

Traditional naturopaths are represented in the United States by the American Naturopathic Association (ANA), representing about 1,800 practitioners [56] and the American Naturopathic Medical Association (ANMA).[18]

The level of naturopathic training varies among traditional naturopaths in the United States. Traditional naturopaths may complete non-degree certificate programs or undergraduate degree programs and generally refer to themselves as Naturopathic Consultants. These programs often offer online unaccredited degrees, but do not offer proper biomedical education or clinical training. Those completing a Doctor of Naturopathy (ND) degree from an ANMCB-approved school can become a Board Certified Naturopathic Doctor.[57][non-primary source needed]

Traditional naturopathic practitioners surveyed in Australia perceive evidence-based medicine to be an ideologic assault on their beliefs in vitalistic and holistic principles.[9] They advocate the integrity of natural medicine practice.[9] Some naturopaths have begun to adapt modern scientific principles into clinical practice.[58]

Evidence basis

See also: Evidence-based medicine

Naturopathy lacks an adequate scientific basis,[9] and it is rejected by the medical community.[9] Some methods rely on immaterial "vital energy fields", the existence of which has not been proven, and there is concern that naturopathy as a field tends towards isolation from general scientific discourse.[16][59][60] Naturopathy is criticized for its reliance on and its association with unproven, disproven, and other controversial alternative medical treatments, and for its vitalistic underpinnings.[3][15] Natural substances known asnutraceuticals show little promise in treating diseases, especially cancer, as laboratory experiments have shown limited therapeutic effect on biochemical pathways, while clinical trials demonstrate poor bioavailability.[61] According to the American Cancer Society, "scientific evidence does not support claims that naturopathic medicine can cure cancer or any other disease.[15]

In 2015 the Australian Government's Department of Health published the results of a review of alternative therapies that sought to determine if any were suitable for being covered by health insurance; Naturopathy was one of 17 therapies evaluated for which no clear evidence of effectiveness was found.[62]

Kimball C. Atwood IV writes, in the journal Medscape General Medicine,

Naturopathic physicians now claim to be primary care physicians proficient in the practice of both "conventional" and "natural" medicine. Their training, however, amounts to a small fraction of that of medical doctors who practice primary care. An examination of their literature, moreover, reveals that it is replete with pseudoscientific, ineffective, unethical, and potentially dangerous practices.[1]

In another article, Atwood writes that "Physicians who consider naturopaths to be their colleagues thus find themselves in opposition to one of the fundamental ethical precepts of modern medicine. If naturopaths are not to be judged "nonscientific practitioners", the term has no useful meaning".[4]

Treatments and practices

Naturopaths are often opposed to mainstream medicine and take an antivaccinationist stance.[3]

According to Arnold S. Relman, the Textbook of Natural Medicine is inadequate as a teaching tool, as it omits to mention or treat in detail many common ailments, improperly emphasizes treatments "not likely to be effective" over those that are, and promotes unproven herbal remedies at the expense of pharmaceuticals. He concludes that "the risks to many sick patients seeking care from the average naturopathic practitioner would far outweigh any possible benefits".[63]

The Massachusetts Medical Society states,

Naturopathic practices are unchanged by research and remain a large assortment of erroneous and potentially dangerous claims mixed with a sprinkling of non-controversial dietary and lifestyle advice.[64] 

In terms of education, The Massachusetts Medical Society states:

Naturopathic medical school is not a medical school in anything but the appropriation of the word medical. Naturopathy is not a branch of medicine. It is a hodge podge of nutritional advice, home remedies and discredited treatments...Naturopathic colleges claim accreditation but follow a true “alternative” accreditation method that is virtually meaningless. They are not accredited by the same bodies that accredit real medical schools and while some courses have similar titles to the curricula of legitimate medical schools the content is completely different.[64]

Certain naturopathic treatments offered by naturopaths, such as homeopathyrolfing, and iridology, are widely considered pseudoscience or quackery.[65][66][67] Stephen Barrettof QuackWatch and the National Council Against Health Fraud has stated that naturopathy is "simplistic and that its practices are riddled with quackery".[5] "Non-scientific health care practitioners, including naturopaths, use unscientific methods and deception on a public who, lacking in-depth health care knowledge, must rely upon the assurance of providers. Quackery not only harms people, it undermines the ability to conduct scientific research and should be opposed by scientists", says William T. Jarvis.[68]

Safety of natural treatments

Naturopaths often recommend exposure to naturally occurring substances, such as sunshineherbs and certain foods, as well as activities they describe as natural, such asexercisemeditation and relaxation. Naturopaths claim that these natural treatments help restore the body's innate ability to heal itself without the adverse effects of conventional medicine. However, "natural" methods and chemicals are not necessarily safer or more effective than "artificial" or "synthetic" ones, and any treatment capable of eliciting an effect may also have deleterious side effects.[5][15][69][70]

Vaccination

See also: Vaccine controversies

Naturopathy is based on beliefs opposed to vaccination and have practitioners who voice their opposition. The reasons for this opposition are based, in part, on the early views which shaped the foundation of this profession.[71] In general, evidence about associations between naturopathy and pediatric vaccination is sparse, but "published reports suggest that only a minority of naturopathic physicians actively support full vaccination".[72][73]

A naturopathy textbook recommends "a return to nature in regulating the diet, breathing, exercising, bathing and the employment of various forces" in lieu of the smallpox vaccine.[74] The British Columbia Naturopathic Association lists several major concerns regarding the pediatric vaccine schedule and vaccines in general.[75] The Oregon Association of Naturopathic Physicians reports that many naturopaths "customize" the pediatric vaccine schedule.[76]

Regulation

Naturopathy is practiced in many countries and is subject to different standards of regulation and levels of acceptance. The scope of practice varies widely between jurisdictions, and naturopaths in some unregulated jurisdictions may use the Naturopathic Doctor designation or other titles regardless of level of education.[47] The practice of naturopathy is illegal in two USA states.[33][34][35]

Australia

In 1977 a committee reviewed all colleges of naturopathy in Australia and found that, although the syllabuses of many colleges were reasonable in their coverage of basic biomedical sciences on paper, the actual instruction bore little relationship to the documented course. In no case was any practical work of consequence available. The lectures which were attended by the committee varied from the dictation of textbook material to a slow, but reasonably methodical, exposition of the terminology of medical sciences, at a level of dictionary definitions, without the benefit of depth or the understanding of mechanisms or the broader significance of the concepts. The committee did not see any significant teaching of the various therapeutic approaches favoured by naturopaths. People reported to be particularly interested in homoeopathy, Bach's floral remedies or mineral salts were interviewed, but no systematic courses in the choice and use of these therapies were seen in the various colleges. The committee were left with the impression that the choice of therapeutic regime was based on the general whim of the naturopath and, since the suggested applications in the various textbooks and dispensations overlapped to an enormous extent, no specific indications were or could be taught.[29]

The position of the Australian Medical Association is that "evidence-based aspects of complementary medicine can be part of patient care by a medical practitioner", but it has concerns that there is "limited efficacy evidence regarding most complementary medicine. Unproven complementary medicines and therapies can pose a risk to patient health either directly through misuse or indirectly if a patient defers seeking medical advice." The AMA's position on regulation is that "there should be appropriate regulation of complementary medicine practitioners and their activities."[77]

India

In India, naturopathy is overseen by the Department of Ayurveda, Yoga and Naturopathy, Unani, Siddha and Homoeopathy (AYUSH); there is a 5½-year degree in "Bachelor of Naturopathy and Yogic Sciences" (BNYS) Diploma/degree that was offered by Board of Complementary and Alternative Medicines-BCAM  (http://bcam.yolasite.com/ )  and other twelve colleges in India as of August 2010.[78] The National Institute of Naturopathy in Pune that operates under AYUSH, which was established on December 22, 1986 and encourages facilities for standardization and propagation of the existing knowledge and its application through research in naturopathy throughout India.[79][80]

North America]

In five Canadian provinces, seventeen U.S. states, and the District of Columbia, naturopathic doctors who are trained at an accredited school of naturopathic medicine in North America, are entitled to use the designation ND or NMD. Elsewhere, the designations "naturopath", "naturopathic doctor", and "doctor of natural medicine" are generally unprotected or prohibited.[35][47]

In North America, each jurisdiction that regulates naturopathy defines a local scope of practice for naturopathic doctors that can vary considerably. Some regions permit minor surgery, access to prescription drugs, spinal manipulations, midwifery (natural childbirth), and gynecology; other regions exclude these from the naturopathic scope of practice or prohibit the practice of naturopathy entirely.[35][81]

Canada

Five Canadian provinces license naturopathic doctors: OntarioBritish ColumbiaManitobaSaskatchewan, and Alberta.[82][83] British Columbia has the largest scope of practice in Canada allowing certified NDs to prescribe pharmaceuticals and perform minor surgeries.[84]

United State

United Kingdom

Naturopathy is not regulated in the United Kingdom. In 2012, publicly funded universities in the United Kingdom dropped their alternative medicine programs, including naturopathy.[86]

Switzerland

The Swiss Federal Constitution seizes the Swiss Confederation and the Cantons of Switzerland within the scope of their powers to oversee complementary medicine.[87] In particular, the Federal authorities must set up diplomas for the practice of non-scientific medicine. The first of such diplomas has been validated in April 2015 for the practice of naturopathy.[43] There is a long tradition for naturopathy and traditional medicine in Switzerland. The Cantons of Switzerland make their own public health regulations. Although the law in certain cantons is typically monopolistic, the authorities are relatively tolerant with regard to alternative practitioners.[44]